भ्रष्टाचार पर निबंध | Bhrashtachar par nibandh

नमस्कार दोस्तों इस पोस्ट में हम भ्रष्टाचार पर निबंध ( Bhrashtachar par nibandh ) लिखने वाले हैं तो अगर आपको भी भ्रष्टाचार पर निबंध कैसे लिखते हैं यह जानना है तो आप लोग हमारे इस पोस्ट को पूरा जरूर से पढ़े

Bhrashtachar par nibandh

भ्रष्टाचार न केवल हमारे निजी जीवन के लिए बाधक है बल्कि यह राष्ट्र के विकास में भी बाधक है जानकारी होनी चाहिए ताकि आप अपने देश को भ्रष्टाचार से मुक्त करने में अपना एक दान दे सके ऐसे लोग अपने पद का फायदा उठाकर कालाबाजारी गबन रिश्वतखोरी इत्यादि कार्यों में लिफ्ट रहते हैं |

भ्रष्टाचार पर निबंध 250 शब्दों में ( Bhrashtachar par nibandh )

आज हमारे देश में प्रत्येक सरकारी कार्यालय गैर सरकारी कार्यालय और राजनीति में भ्रष्टाचार कूट-कूट कर भरा हुआ है भ्रष्टाचार में मुख्य घोष यानी रिश्वत चुनाव में धांधली ब्लैकमेल करना झूठी गवाही झूठा मुकदमा हफ्ता वसूली टैक्स चोरी परीक्षार्थी का गलत मूल्यांकन परीक्षा में नकल पैसे लेकर वोट देना वोट के लिए पैसा या शराब बांटना अपने कार्यों करवाने के लिए नगद राशि देना यह सब भ्रष्टाचार ही है भ्रष्टाचार हर क्षेत्र में बढ़ रहा है यह सब भ्रष्टाचार है और यह दिनभर दिन भारत के अलावा अन्य क्षेत्रों में भी बढ़ रहा है और कोई क्षेत्र भ्रष्टाचार से नहीं बचा है चिकित्सा जैसे क्षेत्र में भी जानबूझकर गलत ऑपरेशन करके पैसा इतना भ्रष्टाचार का केंद्र बनता जा रहा है देश के कुछ भ्रष्टाचारी नेता हमारे देश के लोगों को भाषा के नाम पर भी राजनीतिक करते हैं जब किसी भी अभाव के कारण कष्ट होता है तो वह भ्रष्ट आचरण करने के लिए भाषा के नाम पर भी राजनीति करते हैं जब किसी भी अभाव के कारण कष्ट होता है तो वह भ्रष्ट आचरण करने के लिए विवश हो जाता है

भ्रष्टाचार पर निबंध 500 शब्दों में ( Bhrashtachar par nibandh )

भ्रष्टाचार के कारण विश्व में हमारे देश की छवि बहुत ही खराब हो चुकी है सरकार द्वारा भ्रष्टाचार को रोकने के लिए कोई सख्त नियम नहीं बनाए जाने के कारण भ्रष्ट लोगों के हौसले दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है भ्रष्टाचार के कारण कालाबाजारी बढ़ता जा रहा है भ्रष्टाचार के रोग सरकारी और गैर सरकारी संस्थानों में इस तरह से फैल गया है कि आम आदमी को अपना कार्य करवाने के लिए बड़े अफसर नेताओं को घूस देना पड़ता है भ्रष्टाचार आज किसी एक देश की नहीं बल्कि संपूर्ण विश्व की समस्या है भ्रष्टाचार जैसे बीमारी को हमारे देश के जड़ से उखाड़ कर फेंक दिया जाए भ्रष्टाचार के विरुद्ध को रोकने के लिए काफी सिद्ध होगा हमारे इलेक्शन कमिश्नर को भ्रष्टाचारी नेताओं को चुनाव नहीं लड़ना लड़ने देना चाहिए हमें हर एक धोखाधड़ी की सूचना भ्रष्टाचार निरोधक विभाग को देनी चाहिए क्योंकि पहले व्यक्ति छोटी रिश्वतखोरी करता है और लालच बढ़ जाता है हर जगह भ्रष्टाचार ने अपना घर बना लिया है भ्रष्टाचार कुछ इस प्रकार से भारत में बढ़ चुका है कि कहीं तो भ्रष्टाचार के बिना काम नहीं होता हमें भ्रष्टाचार को जल से समाप्त करना है तो राजनेताओं सरकारी तंत्र और जनता को साथ मिलकर इसके खिलाफ लड़ना होगा भ्रष्टाचार ही तो चाहे वह समाज का कोई भी व्यक्ति क्यों ना हो सरकारी कर्मचारी हो या कोई राजनीतिक नेता भ्रष्टाचार का अपराधी चाहे को कोई भी व्यक्ति हो उसे कठोर से कठोर दंड दिया जाए भ्रष्टाचार के खिलाफ संपूर्ण राष्ट्र एवं दुनिया के जंग में शामिल होना भ्रष्टाचार के कारण हमारे देश में विदेशी लोग आने से घबराते हैं भ्रष्टाचार के कारण भाई भतीजा बात को बढ़ावा मिलता है भ्रष्टाचार के कारण हमारे गांव में पानी बिजली सड़क जैसी सुविधाएं नहीं पहुंच पाई है भारत में भ्रष्टाचार की जड़ी इतनी अधिक घड़ी है कि शायद ही ऐसी कोई क्षेत्र बच्चा हो जा इससे अछूता रहा है शिक्षा विभाग के भ्रष्टाचारियों से अछूता नहीं रहा है सामान के संस्था लाकर मांगा बेचना भ्रष्टाचार के कारण अनेक पड़ी परियोजनाओं तो अधूरी रह जाती है और सरकारी खजाने का करोड़ों रुपया व्यर्थ चला जाता है भ्रष्टाचार के कारण एक जूता से लड़ाई लड़ने का संकल्प लेते हैं भ्रष्टाचार का अपराधी कोई भी व्यक्ति है उसे कठोर दंड दिया जाए हमारे देश की अर्थव्यवस्था ऐसे लोग के हाथ में चली जाती जिनको उसके बारे में कुछ पता नहीं होता है भ्रष्टाचार मुक्त करने में अपना योगदान दे सकते हैं

Leave a comment